जयपुऱ राजस्थान

जयपुर जिला राजस्थान के ३३ जिलों में से १ है और यह जयपुर मण्डल के अंतर्गत आने बाला एक जिला है, जयपुर जिले का मुख्यालय जयपुर शहर है, इस शहर को गुलाबी शहर के नाम से जाना जाता है , जयपुर राजस्थान की राजधानी भी है, जिले में १३ उपमंडल भी है।

जयपुर जिले का क्षेत्रफल १११५२ वर्ग किलोमीटर है, २०११ की जनगणना के अनुसार जयपुर की जनसँख्या ६६६३९७१ और जनसँख्या घनत्व ६०० व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है, जयपुर की साक्षरता ७६% है और महिला पुरुष अनुपात ९०९ महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है, जबकि जयपुर जिले की २००१ से २०११ के बीच जनसँख्या विकासदर २७% रही है।

जयपुर भारत में कहाँ पर है

जयपुर भारत के राज्य राजस्थान के पूर्वी भाग में स्थित है, जयपुर के अक्षांस और देशांतर क्रमशः २६ डिग्री ९ मिनट उत्तर से ७५ डिग्री ८ मिनट पूर्व तक है, समुद्रतल से जयपुर की ऊंचाई ४३१ मीटर है, जयपुर दिल्ली से २८२ किलोमीटर दक्षिण में है।

जयपुर जिले के पडोसी जिले

जयपुर जिले के उत्तर में हरियाणा का महेंद्रगढ़ है, पूर्वोत्तर में अलवर जिला है, पूर्व में दौसा जिला है, दक्षिण पूर्व में सवाई माधोपुर है, दक्षिण में टोंक है, दक्षिण पश्चिम में अजमेर है, पश्चिम में नागौर और पश्चिमोत्तर में सीकर जिला है।

Information about Jaipur in Hindi

नाम जयपुर
राज्य राजस्थान
क्षेत्र 484.64 किमी 2 (187.12 वर्ग मील)
जयपुर की जनसंख्या 3,046,163
अक्षांश और देशांतर 26.9124 डिग्री नं, 75.7873 डिग्री ई
एसटीडी कोड जयपुर 91-141
जयपुर की पिन कोड 302001
जिला मजिस्ट्रेट (डीएम कलेक्टर) श्री कृष्णा कुणाल
पुलिस अधीक्षक (एसपी / एसएसपी) संजय अग्रवाल,
मुख्य विकास अधिकारी श। एम.एम. तिवारी,
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ मनोज कुमार त्रिपाठी
संसद के सदस्य रामचरण बोहरा
विधायक श्री ओमप्रकाश, भाजपा
उपखंडों की संख्या ना
तहसील की संख्या 13
गांवों की संख्या 2199
रेलवे स्टेशन जयपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन
बस स्टेशन सिंधी कैम्प बस स्टैंड
जयपुर में एयर पोर्ट जयपुर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा
जयपुर में होटल की संख्या 225
डिग्री कॉलेजों की संख्या 3
अंतर कॉलेजों की संख्या 210
मेडिकल कॉलेजों की संख्या 25
इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या 25
जयपुर में कंप्यूटर केंद्र 210
जयपुर में मॉल 1 1
जयपुर में अस्पतालों 160
जयपुर में विवाह हॉल 20
नदी (ओं) सबी नदी
उच्च मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग 48
ऊंचाई 431 मीटर (1,414 फीट)
घनत्व 6,300 / किमी 2 (16,000 / वर्ग मील)
आधिकारिक वेबसाइट Http://jaipur.rajasthan.gov.in/content/raj/jaipur/en/home.html#
साक्षरता दर 76.44%
बैंक स्टेट बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, इंडियन बैंक, एसबीबीजे बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक, एक्सिस बैंक, जयपुर बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक, कैनरा बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, आईसीआईसीआई बैंक
प्रसिद्ध नेता (ओं) रामपाल सिंह
राजनीतिक दलों भाजपा, कांग्रेस, सीपीआई, इंडस्ट्रीज़
आरटीओ कोड आरजे -15
आधार कार्ड केंद्र 7
स्थानीय परिवहन कार, ट्रेन, बस और टैक्सी
मीडिया समाचार पत्र, ग्रामीण / शहरी होने के रेडियो, ट्रांजिस्टर, मीडिया, टेलीविजन
विकास 3.40%
यात्रा स्थलों गुलाबी शहर, सिटी पैलेस, हवा महल, आमेर का किला, जंतर मंतर वेधशाला
आयुक्त संजय अग्रवाल

 

जयपुऱ का नक्शा मानचित्र मैप


गूगल मैप द्वारा निर्मित जयपुऱ का मानचित्र, इस नक़्शे में जयपुऱ के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया गया है

जयपुऱ जिले में कितनी तहसील है

जयपुर जिले में 13 तहसील है, जिनके नाम 1. आम्भेर 2. बस्सी 3. चाकसू 4. चोमू 5. जयपुर 6. जमवा रामगढ 7. कोटपूतली 8. मौजमाबाद 9. फागी 10. फुलेरा 11. सांगानेर 12. शाहपुरा 13. विराटनगर इन १३ तहसीलों में सबसे बड़ी तहसील चाकसू तहसील है और सबसे छोटी तहसील जयपुर तहसील है, ग्रामो की संख्या के आधार पर।

जयपुऱ जिले में विधान सभा की सीटें

जयपुर जिले में १८ विधान सभा क्षेत्र है, इन १८ विधानसभा सीटों के नाम 1. विराटनगर 2. शाहपुरा 3. चोमू 4. फुलेरा 5. डुडू 6. झोट्वाड़ा 7. आमेर 8. जामवा रामगढ़ (एसटी) 9. हवाई महल 10. विद्याधर नगर 11. सिविल लाइन्स 12. किशन पोल 13. आदर्श नगर 14 मालवीय नगर 15. संगानेर 16. बागरू (एससी) 17. बासी (एसटी) 18. चाक्षू (एससी), इन १८ विधान सभा क्षेत्रो में २ विधानसभा क्षेत्र अनुसूचित जाती और २ विधान सभा क्षेत्र अनुसूचित जन जाती के लिए आरक्छित है।

जयपुऱ जिले में कितने गांव है

जयपुर जिले में 2369 गांव है, जिनके नाम 1. आम्भेर तहसील में १९३ गांव है, 2. बस्सी तहसील में २०५ गांव है 3. चाकसू में २७८ गांव है, ४. चोमू तहसील में ११५ गांव है 5. जयपुर में ७३ गांव है, 6. जमवा रामगढ तहसील में २४१ गांव है, 7. कोटपूतली में १४४ गांव है, 8. मौजमाबाद तहसील में १५७ गांव है, 9. फागी में १७२ गांव है, 10. फुलेरा तहसील में २२६ गांव है, 11. सांगानेर में १४२ गांव है, 12. शाहपुरा में ९९ गांव है और 13. विराटनगर तहसील में १०१ गांव है।

जयपुर का इतिहास

जयपुर जिसे गुलाबी नगर के नाम से भी जाना जाता है, भारत में राजस्थान राज्य की राजधानी है। आमेर के तौर पर यह जयपुर नाम से प्रसिद्ध पुराने रजवाड़े की भी राजधानी रहा है। इस शहर की स्थापना १७२८ में आमेर के महाराजा जयसिंह द्वितीय ने की थी। जयपुर अपनी समृद्ध भवन निर्माण-परंपरा, सरस-संस्कृति और ऐतिहासिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर तीन ओर से अरावली पर्वतमाला से घिरा हुआ है। जयपुर शहर की पहचान यहाँ के महलों और पुराने घरों में लगे गुलाबी धौलपुरी पत्थरों से होती है जो यहाँ के स्थापत्य की खूबी है। १८७६ में तत्कालीन महाराज सवाई रामसिंह ने इंग्लैंड की महारानी एलिज़ाबेथ प्रिंस ऑफ वेल्स युवराज अल्बर्ट के स्वागत में पूरे शहर को गुलाबी रंग से आच्छादित करवा दिया था। तभी से शहर का नाम गुलाबी नगरी पड़ा है।

जयपुर के दर्शनीय स्थल

शहर में बहुत से पर्यटन आकर्षण हैं, जैसे जंतर मंतर, जयपुर, हवा महल, सिटी पैलेस, गोविंद देवजी का मंदिर, श्री लक्ष्मी जगदीश महाराज मंदिर, बी एम बिड़ला तारामण्डल, आमेर का किला, जयगढ़ दुर्ग आदि। जयपुर के रौनक भरे बाजारों में दुकानें रंग बिरंगे सामानों से भरी हैं, जिनमें हथकरघा उत्पाद, बहुमूल्य पत्थर, हस्तकला से युक्त वनस्पति रंगों से बने वस्त्र, मीनाकारी आभूषण, पीतल का सजावटी सामान, राजस्थानी चित्रकला के नमूने, नागरा-मोजरी जूतियाँ, ब्लू पॉटरी, हाथीदांत के हस्तशिल्प और सफ़ेद संगमरमर की मूर्तियां आदि शामिल हैं। प्रसिद्ध बाजारों में जौहरी बाजार, बापू बाजार, नेहरू बाजार, चौड़ा रास्ता, त्रिपोलिया बाजार और एम.आई. रोड़ के साथ लगे बाजार हैं।
जानिए इतिहास और अन्य जानकारियाँ माधोगढ़ के किले के बारे में
शहर चारों ओर से दीवारों और परकोटों से घिरा हुआ है, जिसमें प्रवेश के लिए सात दरवाजे हैं। बाद में एक और द्वार भी बना जो ‘न्यू गेट’ कहलाया। पूरा शहर करीब छह भागों में बँटा है और यह १११ फुट (३४ मी.) चौड़ी सड़कों से विभाजित है। पाँच भाग मध्य प्रासाद भाग को पूर्वी, दक्षिणी एवं पश्चिमी ओर से घेरे हुए हैं और छठा भाग एकदम पूर्व में स्थित है। प्रासाद भाग में हवा महल परिसर, व्यवस्थित उद्यान एवं एक छोटी झील हैं। पुराने शह के उत्तर-पश्चिमी ओर पहाड़ी पर नाहरगढ़ दुर्ग शहर के मुकुट के समान दिखता है। इसके अलावा यहां मध्य भाग में ही सवाई जयसिंह द्वारा बनावायी गईं वेधशाला, जंतर मंतर, जयपुर भी हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *