कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

कांगड़ा जिला हिमाचल प्रदेश के 12 जिलों में एक जिला है, कांगड़ा कांगड़ा मण्डल का जिला है और इसका मुख्यालय धर्मशाला है, जिले में 10 उपमंडल है, 17 तहसीलें, ४ उप तहसील, 17 उप खंड और 1 लोक सभा क्षेत्र है, 10 विधान सभा क्षेत्र है, 3603 ग्राम है और 2170 ग्राम पंचायते है।

कांगड़ा जिला

कांगड़ा जिले का क्षेत्रफल 5,739 वर्ग किलोमीटर है, और २०११ की जनगणना के अनुसार कांगड़ा की जनसँख्या १, 510,075 और जनसँख्या घनत्व 263/km2 व्यक्ति [प्रति वर्ग किलोमीटर] है, कांगड़ा की साक्षरता 86.49% है, महिला पुरुष अनुपात यहाँ पर 1013 महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है, जिले की जनसँख्या विकासदर २००१ से २०११ के बीच 12.56 % रहा है।

कांगड़ा भारत में कहाँ पर है

कांगड़ा जिला भारत के राज्यो में उत्तर की तरफ की अंदर की तरफ स्थित हिमाचल प्रदेश राज्य में है, कांगड़ा जिला हिमाचल प्रदेश के पश्चिमी भाग का जिला है, इसके उत्तर दक्षिण से उत्तर पश्चिम तक पंजाब है, कांगड़ा 32.1°N 76.27°E के बीच स्थित है, कांगड़ा की समुद्रतल से ऊंचाई 733 मीटर है, कांगड़ा शिमला से 217 किलोमीटर उत्तर पश्चिम की तरफ है और देश की राजधानी दिल्ली से 454 किलोमीटर उत्तर पश्चिम की तरफ ही है।

कांगड़ा के पडोसी जिले

कांगड़ा के उत्तर दक्षिण से उत्तर पश्चिम तक पंजाब के जिले है जो की होशियारपुर जिला और गुरदासपुर जिला है, दक्षिण में ऊना जिला है, दक्षिण पूर्व में हमीरपुर जिला और मंडी जिला है, पूर्व में कुल्लू जिला है, उत्तर पूर्व में लाहौल स्पीति जिला और उत्तर में चम्बा जिला है ।

Information about Kangra in Hindi

नाम कांगड़ा
मुख्यालय धर्मशाला
मंडल कांगड़ा
राज्य हिमाचल प्रदेश
क्षेत्र 5,739 किमी 2 (2,216 वर्ग मील)
कांगड़ा की जनसंख्या 1,510,075
पुरुष महिला अनुपात 1,013
विकास 12.56%।
साक्षरता दर 86.49%
घनत्व 263 / किमी 2 (680 / वर्ग मील)
ऊंचाई 733 मी (2,405 फीट)
अक्षांश और देशांतर 32.1000 डिग्री सेल्सियस, 76.2700 डिग्री ई
कांगड़ा के एसटीडी कोड 1892
कांगड़ा का पिन कोड 176,215
मध्यप्रदेश की संख्या 1
विधायक की संख्या 15
उपखंडों की संख्या 10
तहसील की संख्या 21
गांवों की संख्या 3603
रेलवे स्टेशन कांगड़ा रेलवे स्टेशन
बस स्टेशन बस स्टैंड कांगड़ा
कांगड़ा में एयर पोर्ट कांगड़ा हवाई अड्डे टैक्सी सेवाएं
कांगड़ा में होटल की संख्या 153
डिग्री कॉलेजों की संख्या 4
अंतर कॉलेजों की संख्या 67
मेडिकल कॉलेजों की संख्या 2
इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या 16
कांगड़ा में कंप्यूटर केंद्र 18
कांगड़ा में मॉल 2
कांगड़ा में अस्पताल 12
कांगड़ा में विवाह हॉल 1 1
नदी (रों) बारा बंगाल,
उच्च मार्ग Nh 205, NH 103
आधिकारिक वेबसाइट http://hpkangra.nic.in/
बैंकों पंजाब नेशनल बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, यूको बैंक, एचडीएफसी बैंक लिमिटेड, पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, कॉर्पोरेशन बैंक, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया राणा , बैंक ऑफ बड़ौदा, कैनरा बैंक
प्रसिद्ध नेता (ओं) अमर सिंह थापा
राजनीतिक दलों बीजेएस, सीपीआई, कांग्रेस, पीएसपी,
आरटीओ कोड हिमाचल प्रदेश -40, एचपी -68, एचपी -04
आधार कार्ड केंद्र 1
स्थानीय परिवहन बस, टैक्सी, कार, ऑटो, रेलगाड़ी

कांगड़ा का नक्शा मानचित्र मैप

गूगल मैप द्वारा निर्मित कांगड़ा का मानचित्र, इस नक़्शे में कांगड़ा के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया कांगड़ा है

कांगड़ा जिले में कितनी तहसील है

कांगड़ा जिले में 7 तहसीलें है जो की चंबा, डलहौसी, टीसा, चौवरी, भर्मौर, पंगी, सलूनी, इन 7 तहसीलों को फिर से उप तहसीलों में विभाजित किया गया है, जो की ४ है और उनके नाम भलेई, सिहुंता, होली,धारवाला है, ये फिर से 7 विकास खंडों में विभाजित हैं: चंबा, मेहला, टीसा, भट्टियत, भर्मौर, पंगी, सैलूनी है।

कांगड़ा जिले में विधान सभा की सीटें

कांगड़ा जिले में 4 विधान सभा क्षेत्र है जिनके नाम सदाौरा, जगधरी, कांगड़ा और रादौर, जबकि सदाउरा, जगधरी और कांगड़ा अंबाला लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा हैं, रादौर कुरुक्षेत्र लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा हैं। हैं।

कांगड़ा जिले में कितने गांव है

कांगड़ा जिले में 1591 गांव है जो कि 270 ग्राम पंचायतों के माध्यम से संचालित किये जाते, ग्राम पंचायतो के ऊपर खंड और उसके ऊपर तहसील होती है, जो की जिले में 7 है और 7 उपभागें है ।

कांगड़ा का इतिहास

कांगड़ा का इतिहास वैदिक काल से जुड़ा हुआ है, इस स्थान को ही देव भूमि कहा जाता है, यही से अरिजीकय नदी जिसे आज हम व्यास नदी कहते है निकली है, कुछ इतिहासकारो का मत है है की काँगड़ा की स्थापना कटोच क्षत्रिय राजपूत राजा जो की चन्द्रवंशीय है उन्होंने की थी।

१८४६ में यहाँ पर अंग्रेजो ने अधिकार कर लिया था, तभी उन्होंने कांगड़ा को एक जिले के रूप में मान्यता देकर यहाँ से कई क्षेत्रो पर नियंत्रण किया, कांगड़ा में ही और कांगड़ा के कारन ही इतिहास प्रसिद्द एंग्लो सिख युद्ध हुआ, इस युद्ध के बाद ही कांगड़ा के प्रभाव में कुछ कमी आयी और मुख्यालय कांगड़ा से हटा कर धर्मशाला स्थान्तरित कर दी गयी जो की आज तक वही पर है .


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *