सरायकेला खरसावां झारखंड

सरायकेला खरसावां जिला झारखंड के जिलों में एक जिला है, सरायकेला खरसावां जिला, कोल्हान परगना मंडल के अंतर्गत आता है और इसका मुख्यालय सरायकेला में है, जिले में 2 उपमंडल है, 9 उप खंड और 3 विधान सभा क्षेत्र जो की खूंटी, रांची और सिंहभूम लोकसभा सीटों के अंतर्गत आते है, 11189 ग्राम है और 132 ग्राम पंचायते है।

सरायकेला खरसावां जिला

सरायकेला खरसावां जिले का क्षेत्रफल 2,724.55 वर्ग किलोमीटर है, और २०११ की जनगणना के अनुसार सरायकेला खरसावां की जनसँख्या 1,063,458 और जनसँख्या घनत्व 390/km2 व्यक्ति [प्रति वर्ग किलोमीटर] है, सरायकेला खरसावां की साक्षरता 68.85% है, महिला पुरुष अनुपात यहाँ पर 958 महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है, जिले की जनसँख्या विकासदर २००१ से २०११ के बीच 25.28 % रहा है।

सरायकेला खरसावां भारत में कहाँ पर है

सरायकेला खरसावां जिला भारत के राज्यो में पूर्व की तरफ की अंदर की तरफ स्थित झारखंड राज्य में है, सरायकेला खरसावां जिला झारखंड के दक्षिणी पूर्वी भाग का जिला है इसीलिए इसके उत्तर पूर्व पश्चिम बंगाल राज्य, दक्षिण में उड़ीसा है और सरायकेला खरसावां 22 ° 29’26 “और 23 ° 09’34” उत्तर अक्षांश और 85 ° 30’14 “और 86 ° 15’24” पूर्व देशांतर के बीच स्थित है, सरायकेला खरसावां की समुद्रतल से ऊंचाई 16 मीटर है, सरायकेला खरसावां रांची से 116 किलोमीटर दक्षिण पूर्व की तरफ राष्ट्रिय राजमार्ग ४३ पर स्थित है और देश की राजधानी दिल्ली से 1349 किलोमीटर दक्षिण पूर्व की तरफ ही और ये राष्ट्रिय राजमार्ग १९ पर है।

सरायकेला खरसावां के पडोसी जिले

सरायकेला खरसावां के पश्चिमोत्तर में रांची जिला है, उत्तर पूर्व में पश्चिम बंगाल का जिला है जो की पुरुलिअ जिला है, दक्षिण पूर्व में पूर्वी सिंघभूम जिला है, दक्षिण उड़ीसा के जिले है जो की मयूरभंज जिला दक्षिण पश्चिम में पश्चिमी सिंघभूम जिला है और पश्चिम में खूंटी जिला है ।

Information about Seraikela Kharsawan in Hindi

नाम सरायकेला खरसावां
मुख्यालय सरायकेला
प्रशासनिक प्रभाग कोल्हा मंडल
राज्य झारखंड
क्षेत्रफल 2,724.55 किमी 2 (1,051.95 वर्ग मील)
जनसंख्या (2011) 1,063,458
पुरुष महिला अनुपात 958
विकास 25.28%
साक्षरता दर 68.85%
जनसंख्या घनत्व 390 / किमी 2 (1,000 / वर्ग मील)
ऊंचाई 16 मीटर (52 फीट)
अक्षांश और देशांतर 22 ° 29’26 “और 23 ° 09’34” उत्तर अक्षांश और 85 ° 30’14 “और 86 ° 15’24” पूर्व देशांतर
एसटीडी कोड 06597′
पिन कोड 833219
संसद के सदस्य 3
विधायक 3
उप मंडल की संख्या 2
खंडों की संख्या 9
गांवों की संख्या 1148
रेलवे स्टेशन सिनी रेलवे स्टेशन
बस स्टेशन हाँ
एयर पोर्ट रांची हवाई अड्डा, (173 किमी)
डिग्री कॉलेजों की संख्या 2
अंतर कॉलेजों की संख्या 82
प्राथमिक विद्यालय (पूर्व-प्राथमिक को शामिल करना) 1064
मध्य विद्यालय 620
अस्पताल 1
नदी (ओं) खरकई, स्वर्णरेखा
उच्च मार्ग NH-33
आधिकारिक वेबसाइट http://seraikela.nic.in
बैंक 9
प्रसिद्ध नेता (ओं) NA
आरटीओ कोड JH 22
स्थानीय परिवहन बस, टैक्सी आदि

सरायकेला खरसावां का नक्शा मानचित्र मैप

गूगल मैप द्वारा निर्मित सरायकेला खरसावां का मानचित्र, इस नक़्शे में सरायकेला खरसावां के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया सरायकेला खरसावां है

सरायकेला खरसावां जिले में कितनी तहसील है

सरायकेला खरसावां जिले में प्रशासनिक विभाजन तहसील के बजाये 9 ब्लॉक में किया गया है, इसका मुख्य अधिकारी भी ब्लॉक विकास अधिकारी होता है, इन ब्लॉक का नाम सरायकेला, खरसावां, गमहरिया, राजनगर, कुचाई, चांडिल, ईचागढ़, नीमडीह, कुकड़ू है।

सराईकेला खरसावां में उपमंडल और नगर पालिका

जिले में २ उपमंडल है और २ नगर पालिका है जो की इस प्रकार से है, उपमंडल सराईकेला और चांडिल है जबकि नगर पालिका नगर पंचायत सराईकेला और नगर निगम आदित्यपुर

सरायकेला खरसावां जिले में विधान सभा और लोकसभा की सीटें

सरायकेला खरसावां जिले में 3 विधान सभा क्षेत्र है, जिनके नाम इच्छागढ़, खरसावां और सरायकेला विधान सभा क्षेत्र है जो की खूंटी, रांची और सिंहभूम लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आते है।

सरायकेला खरसावां जिले में कितने गांव है

सरायकेला खरसावां जिले में 132 पंचायतों के अंदर आने वाले 1189 गांव, इन 1189 गांवों में से 1151 रहने वाले गांव है (चिरागी) और 38 वीरान (गैर चिरागी) गांव हैं, ग्राम पंचायतो के ऊपर खंड होती है, जो की जिले में 9 है।

सरायकेला खरसावां का इतिहास

सरायकेला खरसावां का इतिहास पूरी तरह से यहाँ के राजपरिवार के आस पास का ही है, एक मोठे तौर पर देखे तो सरायकेला खरसावां का इतिहास कम से कम ३०० साल पुर्राना और समृध्द है, और ये वर्तमान के पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के तत्कालीन राजा सिंह देओ परिवार की राजधानी और निवास स्थान हुआ करती थी।

सरायकेला खरसावां का इतिहास अगर तिथिओ के हिसाब से देखे तो १६२० में कुमार बिक्रम सिंह प्रथम जो की त्रितय महाराज जगन्नाथ सिंह की उपाधि को धारण करने वाले थे उन्होंने सराईकेला रियासत की नीव राखी जो की आज़ादी के बाद बिहार में जोड़ दी गयी थी, और बाद में इसमें खरसावां उपमंडल को भी जोड़ कर इस जिले को विस्तार दिया गया, इसके बाद १९५० में इसमें ३५ ग्रामो को जोड़ कर इसे और विस्तृत बना दिया गया, आज का सरायकेला खरसावां वही स्वरुप में है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *