रीवा जिला मध्य प्रदेश

रीवा जिला मध्य प्रदेश के जिलों में एक जिला है, रीवा जिला, रीवा मंडल के अंतर्गत आता है और इसका मुख्यालय रीवा में है, जिले में 9 उपमंडल है, 9 ब्लॉक है, 12 तहसील है और कुछ विधान सभा क्षेत्र जो की रीवा संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आती है, NIA ग्राम है और NIA ग्राम पंचायते भी है ।

रीवा जिला

रीवा जिले का क्षेत्रफल 6240 वर्ग किलोमीटर है, और २०११ की जनगणना के अनुसार रीवा की जनसँख्या 2363744 और जनसँख्या घनत्व 380/km2 व्यक्ति [प्रति वर्ग किलोमीटर] है, रीवा की साक्षरता 73.42% है, महिला पुरुष अनुपात यहाँ पर 930 महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है, जिले की जनसँख्या विकासदर २००१ से २०११ के बीच 19.79 % रहा है।

रीवा जिला भारत में कहाँ पर है

रीवा जिला भारत के राज्यो में एकदम मध्य में स्थित मध्य प्रदेश राज्य में है, रीवा जिला मध्य प्रदेश की भौगोलिक सीमा के अंदर उत्तर पूर्वी भाग में है फिर भी इसकी सीमाएं उत्तर प्रदेश से मिलती है उत्तर पश्चिम से लेकर उत्तर पूर्व तक, रीवा 24°53′ उत्तर 81°3′ पूर्व के बीच स्थित है, रीवा की समुद्रतल से ऊंचाई 304 मीटर है, रीवा भोपाल से 3489 किलोमीटर उत्तर पूर्व की तरफ प्रादेशिक राजमार्ग 14 और राष्ट्रिय राजमार्ग 30 पर है और भारत की राजधानी दिल्ली से 804 किलोमीटर दक्षिण पूर्व की तरफ राष्ट्रिय राजमार्ग 19 पर है।

रीवा जिले के पडोसी जिले

रीवा के उत्तर पश्चिम से उत्तर पूर्व तक उत्तर प्रदेश के जिले है, जो की क्रमश चित्रकूट जिला, इलाहाबाद जिला, और मिर्ज़ापुर जिला है, दक्षिण पूर्व में सिंगरौली जिला है दक्षिण में सीधी जिला है और पश्चिम में सतना जिला

Information about Rewa in Hindi

नाम रीवा
मुख्यालय रीवा
प्रशासनिक प्रभाग रीवा डिवीजन
राज्य मध्य प्रदेश
क्षेत्रफल 6,240 किमी 2 (2,410 वर्ग मील)
जनसंख्या (2011) 2,363,744
पुरुष महिला अनुपात 930
विकास 19.79%
साक्षरता दर 73.42%
जनसंख्या घनत्व 380 / किमी 2 (980 / वर्ग मील)
ऊंचाई 304 मीटर (997 फीट)
अक्षांश और देशांतर 24.53 ° उत्तर 81.3° पूर्व
एसटीडी कोड +91-07662′
पिन कोड 486001
संसद के सदस्य 1
विधायक NIA
उपमंडल 9
तहसील 12
खंडों की संख्या 9
गांवों की संख्या NIA
रेलवे स्टेशन रीवा टर्मिनल रेलवे स्टेशन
बस स्टेशन हाँ
एयर पोर्ट रीवा हवाई अड्डा
डिग्री कॉलेजों की संख्या NIA
उच्चतर माध्यमिक विद्यालय NIA
हायस्कूल NIA
प्राथमिक विद्यालय (पूर्व-प्राथमिक को शामिल करना) NIA
मध्य विद्यालय NIA
अस्पताल NIA
नदी (ओं) नर्मदा नदी
उच्च मार्ग एनएच 7, एनएच 27, एनएच 75
आधिकारिक वेबसाइट http://www.rewa.nic.in
बैंक NIA
प्रसिद्ध नेता (ओं) NA
आरटीओ कोड MP-17
स्थानीय परिवहन बस, टैक्सी आदि

रीवा जिले का नक्शा मानचित्र मैप

गूगल मैप द्वारा निर्मित रीवा का मानचित्र, इस नक़्शे में रीवा के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया है

रीवा जिले में कितनी तहसील ब्लॉक और उपमंडल है

रीवा जिले में प्रशासनिक विभाजन उपमंडल, ब्लॉक और तहसील में किया गया है, इनके मुख्य अधिकारी SDM BDO और तहसीलदार होते है, रीवा जिले में कुल मिलाकर 9 उपमंडल है रीवा, सिरमौर, रायपुर, जावे, तोंथर, गंगेओ, नयीगढ़ी, मौगंज, हनुमान जिले में 12 तहसीलें है हुज़ूर, रायपुर, कर्चुलियान, मऊगंज, हनुमाना, गूढ़, त्योंथर, सिरमौर, मंगवा, सेमरिया, जावा, नईगढ़ी तथा 9 ब्लॉक है जावा, त्योंथर, सिरमौर, गंगेव, हनुमाना, मऊगंज, नईगढ़ी, रीवा, रायपुर कर्चुलियान इनको प्रशासनिक भाषा में विकास खंड और रेवेनुए रिकॉर्ड में जनपद पंचायत भी कहते है ।

रीवा जिले में विधान सभा और लोकसभा की सीटें

रीवा जिले में NIA विधान सभा क्षेत्र है रीवा संसदीय क्षेत्र का यह एक हिस्‍सा है।

रीवा जिले में कितने गांव है

रीवा जिले में NIA ग्राम पंचायतों के अंदर आने वाले कुल NIA गांव है, इनमे से NIA गांवों में लोग रहते हैं जिनको आबाद ग्राम कहा जाता है और NIA गांव वीरान है मतलब इन ग्रामो के कोई नहीं रहता है।

रीवा जिले का इतिहास

रीवा का इतिहास मौर्य काल से भी जुड़ा हुआ है, यहाँ पर तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में मौर्यो का राज्य था, इसके बाद नौमी से १२वी शताब्दी तक यहाँ पर कलचुरी राजवंश का आधिपत्य था और १३वी शताब्दी से यह भूभाग रीवा रियासत के रूप में जाना जाने लगा।

रीवा के नाम का इतिहास भी रोचक है, यह नर्मद का दूसरा नाम है और नर्मदा नदी यहाँ से गुजरी है इसलिए इस भूभाग का नाम रीवा पद गया, तानसेन यही के रहने वाले थे, यही के पंडित राम भरोशे अवस्थी ने राष्ट्र गीत और राष्ट गान की धुन का प्रकाशन किया जिसे त्रिपुरी अधिवेशन में बांटा गया था
*NIA = No Information Available
=====================
राजनीति क्या है, जिस धर्म के लोग इकट्ठे होकर वोट करते है राजनीती उधर ही झुक जाती है, अमेरिका कनाडा और ऑस्ट्रेलिया के चुनाव से पहले आप देखेंगे वह के राजनेता अमृतसर के गुरूद्वारे में सेवा करते मिलेंगे क्युकी वह पर सिख एक बहुत बड़ा वोट बैंक है यही हाल भारत में है, राजनीतिओ का झ125+ुकाओ मुस्लिमो और दलितों के लिए क्यों है ? सिर्फ इसीलिए है की वो संगठित होकर वोट करते है, अगर हिन्दू भी ऐसे ही एकजुट हो जाए तो फिर किसी की हिम्मत नहीं होगी गाये और सूअर की तुलना करने की

मान लिया आपकी बात को, पर गाय और चूहे, सांप, बन्दर और सूअर में बहुत अंतर् है, गाय किसी को नुकशान नहीं पहुँचाती उसके दूध, मूत्र और गोवर तक से कई बीमारिया ठीक होती है, और आप खुद हिन्दू होकर के ऐसे लिख रहे हो, ये अंगेजो ने हमे इतना विभाजित कर दिया है की किसी भी हिन्दू धर्म रक्षा के लिए हमे मुसलमानो से लड़ने से पहले अपने ही मेकाले प्रेमी हिन्दुओ से लड़ना पड़ता है, और जब हम आपस में लड़ कर मर जाते है तब मुसलमान हम पर हमला कर देते है, अभी तक यही होता आया है, कोई भी मुस्लिम मेने नहीं देखा जो तीन तलाक, इस्लामिक आतंकबाद, बुरखा प्रथा या फिर बकरीद के खिलाफ हो, पर हमे ऐसे जागरूकता के कीड़े ने कटा है की हमे गाये और सूअर में कोई फर्क ही नजर नहीं आता

कुछ प्रमुख राजवंशो का विवरण नीचे सारणी में दिया गया है :

S.No राजवंश / शासक अवधि
1 नालस 350-760 A,D
2 नागास 760-1324 A.D
3 चालुक्य 1324-1777 A.D
4 भोंसले 1777 – 1853 A.D
5 अंग्रेजों 1853 – 1947 A.D

दंतेवाड़ा की संस्कृति उत्सव और त्यौहार

S.No पांडुम महोत्सव का नाम अवस्था महीना
1 विजजा पांडुम धरती और धान के बीज की पूजा करने के लिए और शिकार के लिए जाने के लिए जो वे वीटा कहते हैं अप्रैल
2 अमा पांडुम एक वर्ष में पहली बार आमों को खाने से पहले भगवान अमा की पूजा करना मई
3 फलक पंडम बोअरिंग धान के बीज से पहले मई
4 डेला पांडुम खेतों में हल संबंधित गतिविधियों को पूरा करने के बाद जून
5 पोडला पांडुम फसलों के सभी रोगों को बाहर निकालने के लिए अगस्त
6 Amus धान की बुवाई के पूरा होने के बाद अगस्त
7 चिक्मा सब्जियों आदि की नई फसलों को खाने के लिए सितंबर
8 कर्ता नए चावल खाने शुरू करने के लिए अक्टूबर
9 फलक पंडम सभी नए फसलों के लिए धन्यवाद देना नवम्बर
10 गाडी पांडुम महुआ फूल (महावा-बासिया यामधुका लैटिफोलिया) को चुनने से पहले फरवरी

*NIA – No Information Available

Comments are closed.