गोंडा उत्तर प्रदेश

गोंडा जिला उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में देवीपाटन मण्डल के अंतर्गत आता है, गोंडा जिले का मुख्यालय भी गोंडा ही है और इस जिले में ४ तहसील और १ लोक सभा सीट है।

गोंडा जिले का क्षेत्रफल ३४०४ वर्ग किलोमीटर है और २०११ की जनगणना के अनुसार गोंडा जिले की जनसँख्या ३४३३९१९ और जनसँख्या घनत्व ८५७ व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है, महिला पुरुष अनुपात ९२१ महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है, साक्षरता ५८.७१% और २००१ से २०११ के बीच जनसँख्या विकास दर २४,१७% रही है।

गोंडा भारत में कहाँ पर है

गोंडा उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में है, इसके अक्षांस और देशान्तर क्रमशः २७ डिग्री १३ मिनट उत्तर से ८१ डिग्री ९३ मिनट पूर्व तक है, गोंडा समुद्र तल से १२० मीटर की ऊंचाई पर है, गोंडा जिले के पडोशी जिले इस प्रकार से है उत्तर में श्रावस्ती पूर्व माँ बस्ती, दक्षिण में फैज़ाबाद और पश्चिम में बरबैंक और बहराइच।

Information about Gonda in Hindi

नाम गोंडा
राज्य उत्तर प्रदेश
क्षेत्र 3404 km2 (1,314 वर्ग मील)
गोंडा की जनसंख्या 3,431,386
अक्षांश और देशांतर 26º 47 ‘और 27º 20’ उत्तर और 81º 30 ‘और 82º 46’ पूर्व
गोंडा के एसटीडी कोड 5262
गोंडा के पिन कोड 271,001
जिलाधिकारी (डीएम। कलेक्टर) डॉ रोशन जैकब
पुलिस अधीक्षक (एसपी / एसएसपी) जे रविंद्र गौड़।
मुख्य विकास अधिकारी राज बहादुर
मुख्य चिकित्सा अधिकारी एसपी सिंह
संसद के सदस्य Mashooq उस्मानी, अकबर अहमद उदासी, ओम प्रकाश, बेनी प्रसाद वर्मा, ओम प्रकाश, ओम प्रकाश
विधायक / सांसद कीर्ति वर्धन सिंह
उप विभाजनों की संख्या Na
तहसीलों की संख्या Colonelganj, गोंडा, मनकापुर, Tarabganj
गांवों की संख्या 16
रेलवे स्टेशन हाँ
बस स्टेशन हाँ
गोंडा में एयर पोर्ट गोंडा के सबसे नजदीक लखनऊ है
गोंडा में होटलों की संख्या 1
डिग्री कॉलेजों की संख्या 34
इंटर कॉलेजों की संख्या शहर Montessory स्कूल, सीएमएस, डीएवी इंटर कालेज, डीएवी इंटर कालेज आईटीआई, एफएए राजकीय इंटर कॉलेज, फातिमा स्कूल, गांधी विद्यालय इंटर कॉलेज, गोंडा सिटी मोन्टेसरी स्कूल, शासकीय कन्या इंटर कॉलेज, गवर्नमेंट हायर सेकेंडरी स्कूल, हाजी इस्माइल डिग्री कालेज, एचएमएस सार्वजनिक स्कूल, जवाहर नवोदय विद्यालय, जिगर मेमोरियल इंटर कॉलेज, लालबहादुर शास्त्री पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज, महाराजा देवी Baks सिंह इंटर कालेज, नगर पालिका इंटर कालेज लड़कियां, पं। दीन दयाल उपाध्याय संस्थान, PVBM इंटर कॉलेज, रघुकुल विद्या पीठ, राजेंद्र लाहिड़ी स्कूल, रवि बच्चे अकादमी, रवि बच्चों अकादमी, सरस्वती शिशु मंदिर, सरस्वती विद्या मंदिर, SGV इंटर कालेज, श्री जीवीएम इंटर कॉलेज
मेडिकल कॉलेजों की संख्या मेडिकल डायग्नोस्टिक सेंटर, आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज
इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या संस्थान मंगलमय समूह, चंडीगढ़ विश्वविद्यालय, स्वास्तिक educations, संस्थानों के श्री साई ग्रुप, Techonogy का ज्ञान गंगा संस्थान, कालेजों के बियानी ग्रुप, संस्थान बंगलौर ग्रुप, संस्थाओं की सेल्वम समूह, Techonogy के Sityog संस्थान, मदर टेरेसा इंटरनेशनल, भारतीय कैरियर कंसल्टेंट्स , संस्थान इंजीनियरिंग
कम्प्यूटर केन्द्रों गोंडा में प्रौद्योगिकी मीना शाह संस्थान, जन शिक्षण संस्थान, बीसीआई संस्थान, Okeanos इन्फोटेक प्राइवेट लिमिटेड, आईसीएस कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, कैरियर प्वाइंट, उत्कृष्ट कैरियर अकादमी, GIIT, सीसीसी पर्चा डीओईएसीसी, लखनऊ कंप्यूटर शिक्षा, प्रौद्योगिकी के विकास कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, Okeanos इन्फोटेक प्राइवेट लिमिटेड, कीर्ति कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, KCIT कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, आँचल कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, प्रगति तकनीकी दुनिया, विजन कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, एक्सेल कम्प्यूटर शिक्षा, जी.डी. कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, आईजीटी कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट और प्रशिक्षण, कंप्यूटर के गौरवशाली संस्थान।
गोंडा में मॉल शून्य
गोंडा के अस्पतालों एससीपीएम अस्पताल, आशीर्वाद मातृत्व और Surgica, सतीश चंद्र पांडे मेमोरियल, गायत्री अस्पताल, सिटी अस्पताल, भरत अस्पताल, लाइफ लाइन अस्पताल, जीवन दीप अस्पताल, कस्तूरी अस्पताल, हयात अस्पताल, अतुल ऑप्टिकल्स और Etecare conent, डॉ वेद प्रकाश सिंह अस्पताल, Khalilullah अस्पताल
गोंडा में विवाह हॉल जय श्री हरि विवाह हॉल, होटल एस कश्मीर पैलेस और शादी हॉल, मिश्रा विवाह हॉल, गोल्डन विवाह हॉल, शिवम विवाह हॉल
नदी (s) घाघरा, सरयू
उच्च मार्ग (s) 35 राष्ट्रीय राजमार्गों
ऊंचाई 120 मीटर (390 फीट)
घनत्व 1,000 / km2 (2,600 / वर्ग मील)
आधिकारिक वेबसाइट www.gonda.nic.in
साक्षरता दर 58.71
बैंकों बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, केनरा बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, कॉरपोरेशन बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई, BANKLIMITED, इलाहाबाद बैंक, आंध्रा बैंक, एक्सिस बैंक के बैंक,
प्रसिद्ध नेता (s) अली अहमद
politcal पार्टियों भाजपा, एएपी, बसपा, माकपा, कांग्रेस, सीपीआई (एम), सीपीआई
आरटीओ संहिता यूपी-43
aadar कार्ड केंद्र 10
स्थानीय परिवहन लक्जरी बस ऑपरेटरों, विलासिता कैब्स
मीडिया समाचार पत्र, ग्रामीण / शहरी रेडियो, ट्रांजिस्टर, मीडिया, टीवी के बाद
विकास 24.17%
यात्रा स्थलों स्वामी नारायण मंदिर, Varahi देव, Prash, Tirrey मनोरमा, पृथ्वी नाथन महादेव, Jhali धाम, पार्वती महादेव आदि
सरकार ने कॉलेजों / विश्वविद्यालयों मीना शाह डिग्री कालेज, बाबा Gayadeen वैद्य बाबू राम महाविद्यालय, किसान डिग्री कालेज, भागीरथी सिंह मेमोरियल महाविद्यालय, चंद्रशेखर Shyamraji महाविद्यालय, दशरथ सिंह मेमोरियल Mahavidyalay, डॉ भीम राव अम्बेडकर महाविद्यालय, Hakikullah चौधरी महाविद्यालय, कामता प्रसाद मथुरा प्रसाद जनता महाविद्यालय आदि

गोंडा का नक्शा मानचित्र मैप



गूगल मैप द्वारा निर्मित गोंडा का मानचित्र, इस नक़्शे में गोंडा के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया गया है

गोंडा जिले में कितने गांव है

गोंडा जिले में १७६९ गांव है जो की ४ तहसीलों में विभाजित है जिनकी तेहसलो के अनुसार संख्या इस प्रकार से है 1. कर्नलगंज ३८४ गांव, 2. गोंडा में ५७८ गांव है 3. मनकापुर में ४६३ गांव है 4. तरबगंज में ३४४ गांव है.

गोंडा जिले में कितनी तहसील है

गोंडा जिले में ४ तहसीलें है जिनके नाम इस प्रकार से है 1. कर्नलगंज 2. गोंडा 3. मनकापुर 4. तरबगंज, इन तहसीलों में सबसे बड़ी तहसील गोंडा है और सबसे छोटी तहसील तरबगंज है

गोंडा का इतिहास

गोंडा के इतिहास के एक लम्बे समय काल में इस जनपद ने अपनी एक विशेष पहचान बना रखी है। प्राचीन काल में इसके वर्तमान भूभाग पर श्रावस्ती का अधिकांश भाग और कोशल महाजनपद फैला हुआ था। महात्मा गौतम बुद्ध के समय इसे एक नयी पहचान मिली। यह उस दौर में इतना अधिक प्रगतिशील एवं समृद्ध था कि महात्मा बुद्ध ने यहाँ २१ वर्ष निबास रहा था भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने अपने विभिन्न उत्खननों में इस जिले की प्राचीनता पर प्रकाश डाला है। गोंडा एवं बहराइच जनपद की सीमा पर स्थित सहेत महेत से प्राचीन श्रावस्ती की पहचान की जाती है। जैन ग्रंथों में श्रावस्ती को उनके तीसरे तीर्थंकर सम्भवनाथ और आठवें तीर्थंकर चंद्रप्रभनाथ की जन्मस्थली बताया गया है। वायु पुराण और रामायण के उत्तरकाण्ड के अनुसार श्रावस्ती उत्तरी कोशल की राजधानी थी जबकि दक्षिणी कोशल की राजधानी साकेत हुआ करती थी। वास्तव में एक लम्बे समय तक श्रावस्ती का इतिहास ही गोंडा का इतिहास है। सम्राट हर्षवर्धन  के राज कवि बाणभट्ट ने अपने प्रशस्तिपरक ग्रन्थ हर्षचरित में श्रुत वर्मा नामक एक राजा का उल्लेख किया हैं जो श्रावस्ती पर शासन करता था। दंडी के दशकुमारचरित में भी श्रावस्ती का वर्णन मिलता है।

मध्यकालीन भारत में गोंडा एक महत्वपूर्ण स्थान बनाये रखने में सफल रहा। सन १०३३ में राजा सुहेलदेव ने सैय्यद मसूद गाजी से टक्कर ली थी। यह भी इतिहास का एक रोचक तथ्य है कि दोनों ही शहर-गोंडा और बहराइच पूरे देश में समादृत हैं। एक दूसरी लड़ाई मसूद के भतीजे हटीला पीर के साथ अशोकनाथ महादेव मंदिर के पास भी हुई थी जिसमें हटीला पीर मारा गया। अशोकनाथ महादेव मंदिर राजा सुहेलदेव द्वारा बनवाया गया था। जिस पर बाद में हटीला पीर का गुम्बद बनवा दिया गया।

जहानाबाद की ताज़ा खबरेकटिहार न्यूज़


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *