औरैया उत्तर प्रदेश

औरैया जिला, उत्तर प्रदेश के कानपूर मंडल का एक जिला है, जिसका मुख्यालय औरैया ही है, औरैया जिले में ३ तेहिलेन और ३ विधान सभा क्षेत्र है, औरैया जिले को १७ सितम्बर १९९७ में इटावा जिले की २ तहसीलें बिधूना और औरैया को मिला कर एक नया जिला बना दिया गया था।

औरैया जिले का क्षेत्रफल २०५४ वर्ग किलोमीटर है, २०११ की जनगणना के अनुसार जनसँख्या १३७२२८७ है औरैया जिले की साक्षरता ८०.२५% और ८६४ महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है, जनसँख्या घनत्व ६८१ व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है, २००१ से २०११ के बीच जनसँख्या विकास दर १६.३% रही है।

औरैया भारत में कहाँ पर है

औरैया भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के पच्छिमी भाग में स्थित है, इसकी उत्तर में कन्नौज से और पश्चिम में सीमाएं इटावा से और दक्षिण में जालौन से, पूर्व और दक्षिण पूर्व में कानपुर देहात से और इसके अक्षांस और देशांतर २६ डिग्री ४७ मिनट उत्तर से ७९ डिग्री ५२ मिनट पूर्व तक है, समुद्र तल से औरैया की ऊंचाई १३७ मीटर है।

Information about Auraiya in Hindi

नाम औरैया
राज्य उत्तर प्रदेश
क्षेत्र 2054 वर्ग किमी।
औरैया की जनसंख्या 64,598
अक्षांश और देशांतर 78 ° 45 ‘और 79 ° 45’ पूर्व, 26 ° 21 “और 27 डिग्री 01” उत्तर के बीच के बीच
औरैया के एसटीडी कोड 5683
औरैया के पिन कोड 206,122
जिलाधिकारी (डीएम। कलेक्टर) माला श्रीवास्तव, I.A.S
पुलिस अधीक्षक (एसपी / एसएसपी) जितेंद्र कुमार / प्रदीप कुमार यादव
मुख्य विकास अधिकारी Na
मुख्य चिकित्सा अधिकारी नवीन Prathamik स्वास्थ्य केन्द्र,
संसद के सदस्य Auraiya- मदन सिंह गौतम (सपा), Bidhuna- प्रमोद कुमार गुप्ता (सपा), Dibiyapur- प्रदीप कुमार यादव (सपा)।
विधायक Shakhar
उप विभाजनों की संख्या Na
तहसीलों की संख्या 2
गांवों की संख्या औरैया (416) Bidhuna, 432
रेलवे स्टेशन Auriya राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली से 373 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। निकटतम रेल इटावा (60 किमी), कानपुर सेंट्रल (96 किमी) निकटतम रेलवे स्टेशन dibyapur (20 किलोमीटर) है पर है।
बस स्टेशन सड़क दूरी या औरैया को कानपुर से ड्राइविंग दूरी 92 किलोमीटर की दूरी पर कुल यात्रा के समय लगभग है। 1 घंटे 16 मिनट।
औरैया में एयर पोर्ट Auriya कानपुर हवाई अड्डे से सिर्फ 100 किमी दूर है।
औरैया में होटलों की संख्या Hotel Shanti Palace, Hotel Shanti Palace Dibiyapur, गेल, पाटा
डिग्री कॉलेजों की संख्या तिलका डिग्री कॉलेज
इंटर कॉलेजों की संख्या एक कश्मीर मीटर इंटर कॉलेज,
मेडिकल कॉलेजों की संख्या पास-कन्नौज (उत्तर प्रदेश), भिण्ड (मध्य प्रदेश), इटावा (उत्तर प्रदेश), जालौन (उत्तर प्रदेश), अकबरपुर ~ कानपुर देहात (उत्तर प्रदेश)
इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या कॉलेजों के पास-कन्नौज (उत्तर प्रदेश), भिण्ड (मध्य प्रदेश), इटावा (उत्तर प्रदेश), जालौन (उत्तर प्रदेश) अकबरपुर ~ कानपुर देहात (उत्तर प्रदेश)
कम्प्यूटर केन्द्रों औरैया में आस्था कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट, कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र व पब, गुरु कृपा कम्प्यूटर सेंटर, UMCA सूचना प्रौद्योगिकी एवं आर्य इन्फोटेक प्राइवेट लिमिटेड, एचसीएल कंप्यूटर, एस ई सी कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र, श्री बांके बिहारी कंप्यूटर, कंप्यूटर क्वेस्ट
औरैया में मॉल Lakdi मंडी औरैया, लकड़ी बाजार, glamrasul बाजार
औरैया में अस्पतालों जिला सामान्य अस्पताल, बाबा रामदेव पतंजलि Chikitsalaya, कटियार नर्सिंग होम, डॉ। परिहार नर्सिंग होम, डॉ। गिरिराज नारायण अग्रवाल क्लिनिक, डॉ। रविकांत अग्रवाल डेंटल क्लिनिक
औरैया में विवाह हॉल मां शारदा विवाह घर, किशन उत्सव पैलेस
औरैया में विवाह हॉल यमुना।
नदी (s) राष्ट्रीय राजमार्ग सं। 2 (मुगल रोड)
उच्च मार्ग (s) राष्ट्रीय राजमार्ग 2 (मुगल रोड) और 64 किमी
ऊंचाई 137 मीटर (449 फीट)
घनत्व प्रति वर्ग। किमी 586 लोग हैं।
आधिकारिक वेबसाइट http://auraya.nic.in/
साक्षरता दर 80.25%
बैंकों Bankofbaroda, औरैया, एचडीएफसी बैंक, औरैया, कॉर्प बैंक, औरैया, पंजाब नेशनल बैंक, औरैया, पंजाब नेशनल बैंक, औरैया,
प्रसिद्ध नेता (s) NATIONAL PARTIES-BJS,CPI,INC,PSP],STATE PARTIES-RRP]INDEPENDENTS-IND
politcal पार्टियों BSP,SP,BJP,INC,
आरटीओ संहिता UP-79
aadar कार्ड केंद्र 9
मेजर निर्यात मद NA
स्थानीय परिवहन 15
मीडिया Hindi, English, and Urdu. Amar Ujala, Dainik Bhaskar,Dainik Jagran,Times of India, Hindustan Times
विकास 16.91%
यात्रा स्थलों Nearest railhead is at Etawah (60 km) and Kanpur Central (96 km). Nearest R.S is at Dibiyapur (20 km).
आयुक्त The national Chambal Sanctuary, famous for the rare Gangetic dolphin,

 

औरैया का नक्शा मानचित्र मैप

गूगल मैप द्वारा निर्मित औरैया का मानचित्र, इस नक़्शे में औरैया के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया गया है

औरैया जिले में कितने गांव है

औरैया जिले में ८४१ गांव है जो की तीन तहसीलों के अंतर्गत आते है, अबसे ज्यादा गांव बिधूना तहसील में है और सबसे कम गांव अजीतमल तहसील में है

औरैया जिले में कितनी तहसील है

औरैया जिले में ३ तहसीलें है जिनके नाम बिधूना, औरैया और अजीतमल है, इसमें बिधूना तहसील सबसे बड़ी है

औरैया का इतिहास

औरैया  उत्तर प्रदेश का एक जिला है। प्राचीन काल में पांचाल राज्य में शामिल था। जनपद मुख्यालय बनने से पूर्व यह इटावा जनपद का तहसील मुख्यालय रहा है। यह जिला कानपुर मंडल के अंतर्गत है। उत्तर में कन्नौज जिला ,दक्षिण में यमुना नदी और जिला जालौन ,पूर्व में जिला कानपुर देहात तथा पश्चिम में जिला इटावा स्थित है।  औरैया जनपद मुख्यालय राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 मुगल रोड पर स्थित है जो कि कानपुर महानगर से 105 किमी. पश्चिम तथा इटावा जनपद मुख्या‍लय से 63 किमी. पूर्व में है।

ब्लॉक-

औरैया, अजीतमल, विधूना, सहार, अछल्‍दा, भाग्‍यनगर, एरवाकटरा

विद्यालय

तिलक इंटर कॉलेज,

तिलक महाविद्यालय,

श्री गोपाल इण्टर कॉलेज,

भारतीय इण्टर कॉलेज

औरैया आधुनिक इतिहास

रोहिल्लास के तहत १७६० ई. में अहमद शाह दुर्रानी ने भारत पर आक्रमण किया। उसका पानीपत के मैदान पर मराठों व्दारा १७६१ में विरोध किया गया और उसनें मराठों को एक असाधारण रुप से हार दी। अन्य मराठा सरदारों के अलावा गोविन्द राव पंडित ने भी युद्ध में अपना जीवन खो दिया। भारत से प्रस्थान पूर्व दुर्रानी प्रमुख ने रोहिल्ला सरदारों को देश के बड़े हिस्सों में भेजा। धुंदे खान को शिकोहाबाद, इनायत खांन (हाफीज़ रहमत खान के बेटे) को इटावा मिला जो कि मराठों के कब्जे में था और १७६२ में एक रोहिल्ला सेना मुल्ला मोहसिन खान के नेतृत्व में मराठो से सम्पत्ति हथियाने के लिये भेजी गयी थी। इस सेना का इटावा शहर के निकट किशन राव व बाला राव पंडित, जो यमुना पार की सुरक्षा के लिये प्रतिबद्ध थे, के व्दारा विरोध किया गया। मोहसिन खान व्दारा इटावा के किले की घेराबन्दी की गयी थी लेकिन किलेदार ने जल्द ही आत्मसमर्पण कर दिया और जिला रोहिल्लास के हाथों में चला गया। जमींदारों ने इनायत खान को राजस्व का भुगतान करने से इन्कार कर दिया और अपने किलों में अवज्ञा का अधिकार सुरक्षित कर दिया। शेख कुबेर और मुल्ला बाज़ खान के नेतृत्व में मजबूत सैन्य बल और कुछ तोप खाने रोहिल्लास भेजे गये और बहुत सारे छोटे किले मिट्टी में मिल गये लेकिन इतनी बर्बरता में भी जमुना पार क्षेत्र के कमैत के जमींदार ने इनायत खान के अधिकार का विरोध किया।उसके बाद हाफिज़ रहमत और इनायत खान खुद इटावा आये और जमींदारों के खिलाफ बर्बरतापूर्वक कार्यवाही को तेज किया और अन्ततः वे सन्धि के लिए तैयार हो गये। उसके बाद हाफिज़ रहमत बरेली चले गये और रोहिल्ला चौकियाँ जिले में सुविधाजनक स्थानों पर स्थापित कर दी गयी। इसी बीच एक नए राजा नाजिब खान का दिल्ली में उदय हुआ। नाजिब खान को नाजिब-उद् –दौला, आमिर-उल-उमरा, शुजा उद- दौला के नाम से भी जाना जाता है। नबाब वाजिर ने सफदर जंग में सफलता प्राप्त की और दुर्रानी व्दारा रोहिल्लास की दी गयी जमींन के अलावा बंगश से अलीगढ़ तक की सम्पत्ति पर कब्जा कर लिया लेकिन फर्रुखाबाद के अफगानों को वाजिर की दुश्मनी बर्दाश्त नहीं हुई और १७६२ में उसने फर्रुखाबाद पर हमले में शामिल होने के लिए नाजिब-उद-दौला को मनाया। हमला हाफिज़ रहमत खान की सहायता से जीता गया। १७६६ में मराठों ने एक बार फिर मल्हार राव, जो अपने अवसर का इन्तजार कर रहा था, के नेतृत्व में जमुना पार करके फंफूद पर आक्रमण कर दिया। जहाँ पर मुहम्मद हसन खान, मोहसिन खान के सबसे बड़े पुत्र के नेतृत्व में रोहिल्लास सेना तैनात की गयी थी। इस खबर के मिलने पर हाफिज़ रहमत बरेली से मराठों का सामना करने के लिये आगे बढ़ा। फफूँद के करीब उसको शेख कुबेर, इटावा के रोहिल्ला राज्यपाल का साथ मिला और युद्ध में चुनौती देने का तैयारी शुरु हो गयी। लेकिन मल्हार राव ने जोखिम में शामिल होने से मना कर दिया। और एक बार फिर वह जमुना पार चला गया। महत्वाकांक्षी नाजिब-उद-दौला १७६२ में अहमद खान की तरफ से बांग्ला देश की ओर से रोहिल्लास के हस्तक्षेप से काफी चिढ़ गया था और वह भी बदला लेने के लिये जल्दी से अपनी योजनाओं को आगे बढ़ाने में लगा हुआ था, उसने १७७० में हाफिज़ रहमत खान के पतन की साजिश रचना शुरु कर दिया। नाजिब-उद-दौला और मराठों की संयुक्त सेना दिल्ली से आगे बढ़ी, लेकिन कोइल में नाजिब-उद-दौला बीमार पड़ गया और उसने अपने सबसे बड़े पुत्र जबीता खान को मराठों की सहायता करने के लिये छोड़कर अपने कदम पीछे ले लिये। फिर भी जबीता खान ने ,किसी भी तरह से अपने अफगान भाईयों के खिलाफ युद्ध का निपटारा नहीं किया । यह जानने पर मराठों ने उसे अपने शिविर में ही व्यावहारिक रुप से कैदी बना लिया और उसने हाफिज रहमत खाने से अपनी रिहाई प्राप्त करने के लिये अनुरोध किया। तद्नुसार हाफिज रहमत खान ने जबीता खान की रिहाई के लिये मराठों से वार्ता शुरु की, लेकिन मराठा नेताओं ने अपने मूल्य के रुप में इटावा और शिकाहाबाद के जागीर के आत्मसमर्पण की माँग की। हाफिज रहमत खान उन शर्तों पर निपटारा करने के लिये सहमत नहीं था। और वार्ता के दौरान मराठों से सौदा करने के बीच में जबीता खान बच के भाग निकला। अब मराठों और अफगाँन सेनाओं के बीच में कई अनियमित सन्धियाँ हुई। लेकिन जबकि धुंदे खान शिकोहाबाद देने के लिये तैयार हो गया था, इनायत खान ने इटावा देने से मना कर दिया।

सीतामढ़ी समाचारसुपौल न्यूज़Vaishali News in Hindi,

विहार समाचार

 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *