जैसलमेऱ राजस्थान

जैसलमेर जिला राजस्थान के जिलो में सबसे कम जनसँख्या वाला जिला है, जैसलमेर जिला राजस्थान के जोधपुर मण्डल के अंतर्गत आता है और इस जिले के मुख्यालय जैसलमेर नगर में ही है, ये जिला सर्वाधिक रेगिस्तानी भाग से भर हुआ है, और इसकी काफी लम्बी सीमाएं पाकिस्तान से जुडी हुयी है। [Jaisalmer Fort Location Facts and History in Hindi]

जैसलमेर जिले का क्षेत्रफल ३८४०१ वर्ग किलोमीटर है, २०११ की जनगणना के अनुसार जैसलमेर की जनसँख्या ६७२०००८ है और जनसँख्या घनत्व १७ व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है, जैसलमेर की साक्षरता ५८% है, महिला पुरुष अनुपात ८४९ महिलाये प्रति १००० पुरुषो पर है और २००१ से २०११ के बीच जनसँख्या विकास दर ३३% रही है।

जैसलमेर भारत में कहाँ है

जैसलमेर भारत के पश्चिमी राज्य राजस्थान में स्थित है और ये भी राजस्थान का सबसे पश्चिमी इला है जिसकी एक तरफ की सीमाएं पाकिस्तान से मिलती है, जैसलमेर के अक्षांस और देशांतर क्रमशः २६ डिग्री ९१ मिनट उत्तर से ७० डिग्री ९१ मिनट पूर्व तक है, जैसलमेर राजस्थान की राजधानी जयपुर से ५५९ किलोमीटर पश्चिम की तरफ है और देश की राजधानी दिल्ली से भी ७५८ पश्चिम की तरफ है।

जैसलमेर के पडोसी जिले

जैसलमेर के उत्तर, उत्तर पश्चिम और दक्षिण पश्चिम की सीमाएं पाकिस्तान से मिली हुयी है, जबकि पूर्वोत्तर में बीकानेर है, पूर्व में जोधपुर है और दक्षिण में बाड़मेर है।

Information about Jaisalmer in Hindi

नाम जैसलमेर
राज्य राजस्थान
क्षेत्र 5.1 किमी 2 (2.0 वर्ग मील)
जैसलमेर की जनसंख्या 65,471
अक्षांश और देशांतर 26.9157 डिग्री एन, 70.9083 डिग्री ई
जैसलमेर का एसटीडी कोड 29 9 2
जैसलमेर का पिन कोड 345001
जिला मजिस्ट्रेट (डीएम कलेक्टर) मतेदेन शर्मा
पुलिस अधीक्षक (एसपी / एसएसपी) गोवराव
मुख्य विकास अधिकारी
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ। बी.के.रूपाल
संसद के सदस्य सोना राम चौधरी
विधायक छोटू सिंह भाटी
उपखंडों की संख्या ना
तहसील की संख्या 3
गांवों की संख्या 801
रेलवे स्टेशन जैसलमेर रेलवे स्टेशन
बस स्टेशन जैसलमेर बस
जैसलमेर में एयर पोर्ट जैसलमेर एयरपोर्ट
जैसलमेर में होटल की संख्या 180
डिग्री कॉलेजों की संख्या 1 1
अंतर कॉलेजों की संख्या 12
मेडिकल कॉलेजों की संख्या 10
इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या 19
जैसलमेर में कंप्यूटर केंद्र 55
जैसलमेर में मॉल 8
जैसलमेर में अस्पताल 6
जैसलमेर में विवाह हॉल 5
नदी (ओं) सरस्वती,
उच्च मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग 11
ऊंचाई 225 मीटर (738 फीट)
घनत्व 13,000 / किमी 2 (33,000 / वर्ग मील)
आधिकारिक वेबसाइट Http://jaisalmer.rajasthan.gov.in/content/raj/jaisalmer/en/home.html#
साक्षरता दर 58.04%
बैंक आईसीआईसीआई बैंक, कैनरा बैंक, भारतीय विदेशी बैंक, यूनियन बैंक, एचडीएफसी बैंक, कैनरा बैंक,
प्रसिद्ध नेता (ओं) सत्यजीत रे
राजनीतिक दलों भाजपा, बसपा, सीपीआई, कांग्रेस
आरटीओ कोड आरजे 15
आधार कार्ड केंद्र 1 1
स्थानीय परिवहन टैक्सी, कार, बस, ट्रेन, हवाई अड्डे
मीडिया समाचार पत्र, ग्रामीण / शहरी होने के रेडियो, ट्रांजिस्टर, मीडिया, टेलीविजन
विकास 24.3 9%
यात्रा स्थलों जैसलमेर फोर्ट, बडा बाग, पतवन-की-हवेली, सैम रेड ड्यून्स, गद्दर झील, डेजर्ट नेशन पार्क, सिल्क रूट आर्ट गैलरी

 

जैसलमेऱ का नक्शा मानचित्र मैप


गूगल मैप द्वारा निर्मित जैसलमेऱ का मानचित्र, इस नक़्शे में जैसलमेऱ के महत्वपूर्ण स्थानों को दिखाया गया है

जैसलमेऱ जिले में कितनी तहसील है

जैसलमेर जिले में ३ तहसीलें है, जिनके नाम 1. फतेहगढ़ 2. जैसलमेर 3. पोखरण, इन तीन तहसीलों में ग्रामो की संख्या के आधार पर सबसे बड़ी तहसील जैसलमेर है और सबसे छोटी तहसील फतेहगढ़ तहसील है।

जैसलमेऱ जिले में विधान सभा की सीटें

जैसलमेर जिले में विधान सभा की दो सीटें है, पहले विधानसभा सीट जैसलमेर है और दूसरी सीट पोखरण है

जैसलमेऱ जिले में कितने गांव है

जैसलमेर जिले गांव है जो की जिले की ३ तहसीलों के अंतर्गत आते है, जिनकी संख्या तहसीलों के नाम के साथ इस प्रकार से है 1. फतेहगढ़ तहसील में १२० गांव है, 2. जैसलमेर में ३७१ गांव है, और 3. पोखरण में २९६ गांव है।

जैसलमेऱ का इतिहास

जैसलमेर राजस्थान प्रांत का एक शहर है जो की पाकिस्तान की सीमा के ज्यादा निकट है । जैसलमेर जिले का नाम पुराने समय में ’माडधरा’ अथवा ’वल्लभमण्डल’ के नाम से प्रसिद्ध था।  जैसलमेर की स्थापना भाटी राजपूत, राव जैसल ने 12 वीं शताब्दी में की थी।  महाभारत के युद्ध के बाद बड़ी संख्या में यादव (जो की वास्तव में गौ पालक थे) इस ओर अग्रसर हुए व यहां आ कर बस गये। यहां अनेक सुंदर हवेलियां और जैन मंदिरों के समूह हुआ karte they जो lagbhag 12वीं से 15वीं शताब्‍दी के बीच बनाए गए थे। सल्तनत काल के लगभग ३०० वर्ष के इतिहास में गुजरता हुआ यह राज्य मुगल साम्राज्य में भी लगभग ३०० वर्षों तक अपने अस्तित्व को बनाए रखने में सक्षम रहा। भारत में अंग्रेज़ी राज्य की स्थापना से लेकर समाप्ति तक भी इस राज्य ने अपने वंश गौरव व महत्व को यथावत रखा। सँकरी गलियों वाले जैसलमेर के ऊँचे-ऊँचे भव्य आलीशान भवन और हवेलियाँ सैलानियों को मध्यकालीन राजशाही की याद दिलाती हैं। शहर इतने छोटे क्षेत्र में फैला है कि सैलानी यहाँ पैदल घूमते हुए मरुभूमि के इस सुनहरे मुकुट को निहार सकते हैं। इतिहास की दृष्टि से देखें तो जैसलमेर शहर पर खिलजी, राठौर, मुगल, तुगलक आदि ने कई बार आक्रमण किया था। इसके बावजूद जैसलमेर के शाही भवन राजपूत शैली के सच्चे द्योतक हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *