History of Taj Mahal in Hindi

ताजमहल की संगमरमर संरचना के पहली मंजिल पर कमरे हैं। इस ऊपरी मंजिल की तरफ जाने वाली सीढ़ियो को बन्द रखा जाता है और वहा प्रवेश शाहजहां के समय से बाधित है। ऊपरी मंजिल के कमरे का फर्श और संगमरमर की दीवारों का संगमरमर पैनल उखडा हुआ है जो चित्र में देखा जा सकता है। शाहजहां ने ऊपरी मंजिल से उखाडे गये संगमरमर का इस्तेमाल कब्र और कुरान उत्कीर्णन के निर्माण के लिये किया क्योंकि वह नही जानता था के बाकि के संगमरमर के जैसा पत्थर कहा से लाये जो ताजमहल की महिमा को बरकरार रख सके। या वह इतना कंजूस था के लूटे हुये हिंदू मंदिर को इस्लामी मकबरे में बदलने के लिये भी ज्यादा खर्च नहीं करना चाह्ता था.

Taj Mahal History in Hindi

प्रस्तोता नौकाओं के लिए पत्थर. ताजमहल के उत्तरी तरफ, एक मंच 3 फुट 6 इंच चौडा है. मंच में एम्बेडेड प्रस्तोता नौकाओं के लिए कई पत्थर के छल्ले है. तस्वीर में हम ऐसे ही दो पत्थर, एक निचले दाये कोने में, दूसरा धारा के विरुद्ध आगे में देख सकते हैं. इससे पता चलता है कि इमारत ताज में निवासियों के लिए नदी परिवहन के लिए नावों की सुविधा के लिए योजना बनाई गई थी. फिर, तनिक सोचिये, अगर ये कब्र गाह है (जहा कोई नही रहता) तो इनकी क्या आवश्यकता 

qss

शिखर के गुंबद पर जो आक्रिती है, वो ताजमहल के लाल पत्थर आंगन पर उकेरी गयी है. आंगनों में इस तरह के फर्श नमूने एक आम हिंदू लक्षण हैं. नारियल ऊपर और नीचे मुड़ी हुई आम की पत्तिया एक कलश (यानी पानी के बर्तन) पर रखी गई कर एक पवित्र हिंदू मूल भाव है. हिमालय की तलहटी में हिंदू मंदिरों के समान [केदारनाथ, एक प्रमुख शिव मंदिर] शिखर है. स्केच के पूर्वी स्थान भी आम तौर पर हिंदू है. लंबाई लगभग 32 फीट

1यह धतुरे का फूल है और शिव पूजा के लिए आवश्यक होता है। यह फूल पवित्र, गूढ़ हिंदू मंत्र “ओम” के आकार में दिखाया गया है. इस खिले ‘ओम’ का उभरा डिजाइन शिव के अष्टकोणीय केंद्रीय गर्भगृह के बाहर अन्कित हैं जहां मुमताज की नकली कब्र लगाई गयी है। जबकि केंद्रीय कक्ष के चारों ओर घूमते हुए आप ‘ओम’ जैसे डिजाइन देख सकते हैं।

ताजमहल के ये गलियारे आमतौर पर हिन्दू है. इस प्रकार के गलियारे किसी भी प्राचीन हिंदू राजधानी में देखे जा सकते है. दाएं और बाएं शीर्ष पर दो अष्टकोणीय गुम्बद टावर पर ध्यान दें. केवल हिंदुओं मे आठ दिशाओं के लिए विशेष नाम हैं और प्रत्येक के लिए आकाशीय गार्ड निर्धारित किए गए है. ऐतिहासिक इमारतों में कोई भी अष्टकोणीय सुविधा को हिंदू मूल का समझना चाहिए. जब ताजमहल एक हिंदू मंदिर महल था तब गार्ड, पालकी पदाधिकारियों और अन्य आने वाले सैकड़ों यात्री इन गलियारों के कमरों में रहते थे. इस प्रकार इस्लामी कब्रिस्तान बनने से पहले ताज और अधिक भव्य और आलीशान था.

5यह नक्कर खाना उर्फ संगीत हाउस ताजमहल के बगीचे में एक अयोग्यता है अगर ताजमहल इस्लामी मकबरा था। दाएँ तरफ एक इमारत है जो मुसलमानों की एक मस्जिद होने का दावा किया जाता है। संगीत हाउस के लिए एक मस्जिद की निकटता मुस्लिम परंपरा के साथ असंगत है। भारत में मुसलमानों के द्वारा मस्जिद से गुजरते हिन्दु संगीत जुलूसों पर पत्थर फेन्कने की एक परंपरा है। इसके अलावा एक मकबरे मे खामोशी की जरूरत है। एक मृत व्यक्ति के विश्राम को कभी बाधित नहीं करना चहिये। कौन फिर एक मृत मुमताज के लिए एक सन्गीत घर उपलब्ध कराएगा? इसके विपरीत हिंदू मंदिरों और महलों मे संगीत घर हैं क्योंकि सुबह और शाम को संगीत और कीर्तन, एक दैनिक क्रिया कलाप है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *