History of Rajput Dynasty in Hindi

राजस्थान के andar एक नई कबीले ke रूप में उभरा योद्धाओं का samooh जो 7 वीं और 8 वीं सदी के दौरान राजपूतों के रूप में जाना जाने लगा, वे मूल रूप से लोगों के योद्धा वर्ग के थे और राजस्थान और भारत के कुछ केंद्रीय भागों में फैले हुए थे. हालांकि राजपूतों के उदय के बारे में विवाद नहीं है फिर भी वे स्यम को चन्द्रवंशीय और सूर्यवंशीय vargo me alag alag mante thee, कुछ राजपूत अपने ko agnivansiy bhee mante है, इन सारे rajayo ne और आगे राजपूत साम्राज्य की वृद्धि की हैं राजस्थान की रॉयल राजपूत 500 वर्षों की अवधि के लिए राजस्थान और गुजरात me सफलतापूर्वक शासन किया.

योद्धा वर्ग से होने के नाते राजपूत सैनिकों की विशाल सेनाओं अनिवार्य रूप से होना तय था. जो उनके जो अंगरक्षकों और चौकीदार थे वो अपने स्वामियों के बहुत वफादार थे. वास्तव में, राजपूतों को उनकी निष्ठा और भरोसेमंद प्रकृति के लिए जाता है. राजपूतों का व्यक्ति एक कुशल योद्धा होता है, राजपूतों की बहादुरी के बारे में कई किस्से और लोक कथाये हैं. राजपूतों को सिर्फ भगवान का डर hota tha और ve विष्णु, राम और सूर्य देवता को समर्पित थे.

पृथ्वीराज चौहान एक बहुत प्रसिद्ध अजमेर राजस्थान के राजपूत शासक थे, jinhone 12 वीं सदी के आसपास मुहम्मद गौरी के खिलाफ एक भयंकर युद्ध छेड़ा था. मुगलों पर भी आक्रमण किया जब दक्षिण पूर्व एशिया ke islamik शासकों ne bharat   desh me islamik rajy ki niv rakhi to sabse pahle yahee rajput raja unse lade the


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *